Connect with us

Business

जाने बैंकिंग, पेमेंट सिस्टम, शेयर मार्केट से जुड़े ये नियम जो आज से बदल रहे हैं, जानिए आप पर क्या होगा असर?

Published

on

आज 1 अक्टूबर यानी शुक्रवार से देश में वित्तीय लेन-देन से जुड़े नियमों में ऐसे कई अहम बदलाव होने जा रहे हैं जिनका आप पर सीधा असर पड़ सकता है. ये बदलाव बैंकिंग, पेमेंट सिस्टम, शेयर मार्केट आदि से जुड़े हैं. आइए जानते हैं कि 1 अक्टूबर से कौन-कौन से नियम बदलने वाले हैं.

1 अक्टूबर से आपके क्रेडिट, डेबिट कार्ड, वॉलेट आदि पर ऑटो डेबिट का नियम बदलने जा रहा है. अब RBI का नया नियम लागू हो जाएगा. रिजर्व बैंक ने इसके लिए ही एडिशनल फैक्टर ऑफ आथेंटिकेशन (AFA) सुविधा शुरू की है. ई-मैंडेट के तहत अब पांच हजार से कम रकम बस पूर्व सूचना देकर काटी जाएगी और इससे ऊपर की रकम पर AFA सिस्टम यानी ओटीपी के द्वारा पेमेंट लागू होगा.

इन बैंकों का चेक रद्द हो जाएगा: एक अक्टूबर से तीन बैंकों का चेकबुक बेकार हो जाएगा. अगर आपका इलाहाबाद बैंक, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स या यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया में अकाउंट है, तो ये जानकारी आपके लिए ही है. 1 अक्टूबर, 2021 से आपके पुराने चेकबुक बेकार हो जाएंगे. आप नए चेकबुक के लिए इन बैंकों से संपर्क करें.

निष्क्रिय हो जाएगा डीमैट अकाउंट: SEBI ने डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट रखने वाले लोगों को 30 सितंबर 2021 से पहले KYC डिटेल्स अपडेट करने के लिए कहा था. तो अगर आपने अब तक अपने डीमैट अकाउंट में केवाईसी अपडेट नहीं किया है तो आपका डीमैट अकाउंट सस्पेंड हो जाएगा और आप बाजार में ट्रेडिंग नहीं कर पाएंगे. यह तब तक चालू नहीं होगा, जब तक आप केवाईसी अपडेट नहीं कर लेते.

नॉमिनी की जानकारी देनी होगी: इसी तरह अब शेयर बाजार के डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट में आपको नॉमिनी की जानकारी देना जरूरी है. अगर कोई निवेशक नॉमिनेशन नहीं देना चाहता तो उसे इसके बारे में एक डेक्लेरेशन फॉर्म भरकर देना होगा. पुराने डीमैट खाताधारकों को भी फॉर्म भरकर 31 मार्च, 2022 तक यह जानकारी देनी है. अगर आप कोई जानकारी नहीं देते तो ट्रेडिंग और डीमैट खाते को फ्रीज कर दिया जाएगा.

फूड बिजनेस में सख्ती: खाद्य सुरक्षा नियामक FSSAI ने फूड बिजनेस ऑपरेटर्स के लिए नकद रसीद या खरीद चालान पर FSSAI लाइसेंस नंबर या पंजीकरण संख्या की जानकारी देना अनिवार्य कर दिया है. अगर किसी कारोबारी ने FSSAI के इस नियम को फॉलो नहीं किया गया तो उसका लाइसेंस या रजिस्ट्रेशन रद्द किया जा सकता है.

Continue Reading
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Business

क्या आपकी Netflix, Amazon Prime, Hotstar जैसी सर्विस 1 अक्टूबर से बंद हो गयी है? जाने RBI का नया नियम

Published

on

Auto Debit Payment Rule: क्या आप Netflix, Amazon Prime, Hotstar जैसे ओटीटी प्लेटफॉर्म या फिर DTH सर्विस का इस्तेमाल नहीं कर पर रहे हैं? परेशान न हों और जाने RBI का नया नियम जिसकी बजह से आपकी सर्विस हुई हैं बंद. RBI के नए  Auto Debit Payment Rule की बजह से हो सकता है कि 1 अक्टूबर के बाद Amazon Prime, Netflix और DTH रिचार्ज काम करना बंद कर सकती है। इसकी वजह रिचार्ज ना होना हो सकता है। दरअसल मौजूदा वक्त में कई सारे लोग क्रेडिट कार्ड पेमेंट, UPI पेमेंट समेत Netflix, Amazon Prime या फिर DTH रिचार्ज के लिए ऑटो पेमेंट सर्विस का इस्तेमाल करते हैं। इनके लिए ऑटो डेबिट पेमेंट के नियमों में हुये बदलाव को जानना जरूरी हो जाता है।

आप बिलकुल भी न घबराएँ , ये नियम आपके फायदे के लिए ही है. अब ऑटो पेमेंट में एडिशनल फैक्टर ऑथेंटिकेशन को जोड़ा गया है। मतलब ऑटो पेमेंट से पहले ओटीटी प्लेटफॉर्म और बैंक की तरफ से आपको ऑटो पेमेंट की जानकारी दी जाएगी। अगर आप मौजूदा सर्विस को आगे जारी रखने की अनुमति देंगे तभी आपका पेमेंट कटेगा.

1 अक्टूबर से बदल रहा है ऑटो पेमेंट नियम

1 अक्टूबर से रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) के आदेश के चलते ऑटो पेमेंट सर्विस को बंद किया जा रहा है। RBI की तरफ से इस तरह के पेमेंट करने के लिए एक अतिरिक्त AFA यानी एडिशन फैक्चर ऑथेंटिकेशन प्रोसेस को जोड़ दिया है। ऐसे में ऑटो पेमेंट सर्विस का इस्तेमाल करने वालों के लिए नये नियम जानने जरूरी हैं। जिससे रिचार्ज मिस ना हो जाएं। नहीं तो आपके ओटीटी प्लेटफॉर्म काम करना बंद कर देंगे। RBI के नये नियम 1 अक्टूबर 2021 से देशभर में लागू हो रहे हैं।

क्या है एडिशनल फैक्टर ऑथेंटिकेशन (AFA)

RBI के आदेश के बाद ऑटो पेमेंट में एडिशनल फैक्टर ऑथेंटिकेशन को जोड़ा गया है। मतलब ऑटो पेमेंट से पहले ओटीटी प्लेटफॉर्म और बैंक की तरफ से आपको ऑटो पेमेंट की जानकारी दी जाएगी। अगर आप रिचार्ज जारी रखना चाहते हैं, तो आपको ऑटो पेमेंट की इजाजत देनी होगी। अभी तक ऑटो पेमेंट से पहले मैसेज नहीं आता था। बता दें कि AFA नियम को पहले 1 अप्रैल 2021 से लागू किया जाना था। लेकिन, बाद में RBI की तफ से इसमें 6 माह की छूट दी गई थी। ऐसे में ऑटो पेमेंट AFA नियम 1 अक्टूबर से लागू हो रहा है।

Continue Reading
Advertisement

Trending